दुनिया की सबसे सुंदर रानी के राज खोलेंगे सालों पुराने सिक्के आपने ऐसा कभी नहीं जाना होगा जान..

0
163

ये माना जाता है कि मिस्र में 365 एडी में भयानक भूकंप आया था, जिसमें क्लियोपेट्रा का मकबरा ध्वस्त हो गया था. लेकिन ऑर्कियोलॉजिस्ट कैथलीन मार्टिनेज ने कहा कि उन्हें एलेक्जेंड्रिया शहर से करीब 30 मील यानी 48 किलोमीटर दूर कुछ ऐसे सबूत मिले हैं जो ये बताते हैं कि क्लियोपेट्रा का मकबरा कहां है.क्लियोपेट्रा को मिस्र की सबसे विख्यात रानी भी कहा जाता है. उसकी खूबसूरती की तारीफ पूरी दुनिया में होती थी. लेकिन हजारों सालों तक लोग उसका मकबरा नहीं खोज पाए थे. क्योंकि उसकी मौत और उसका मकबरा एक रहस्य थे. पर अब 2000 साल बाद पुरातत्वविदों ने क्लियोपेट्रा के मकबरे को खोजने का दावा किया है.


इजिप्टोलॉजिस्ट डॉ. ग्लेन गॉडेन्हो ने कहा कि सिक्के पुरानी चीजों के प्रमाणित करने में सक्षम होते हैं. कैथलीन को मिले सिक्के से ये बात तो प्रमाणित होती है कि उस समय क्लियोपेट्रा का शासन था और मंदिर में देवी आइसिस की पूजा होती थी. एक्सप्रेस डॉट को डॉट यूके में प्रकाशित खबर के अनुसार डॉ. गॉडेन्हो ने कहा कि अब कैथलीन को यह बात प्रमाणित करनी है कि क्लियोपेट्रा का देवी आइसिस के मंदिर से व्यक्तिगत जुड़ाव था. सिक्के के एक तरफ क्लियोपेट्रा की शक्ल बनी है, दूसरी तरफ ग्रीक भाषा में क्लियोपेट्रा का नाम खुदा है. मिस्र में क्लियोपेट्रा की शक्ल वाले 200 सिक्के मिलने के बाद इस बात अंदाजा लगाया जा रहा है कि उस जगह के आसपास ही क्लियोपेट्रा का मकबरा होगा. जहां उसकी ममी रखी हो सकती है. कैथलीन ने बताया कि ये मकबरा टैपोसिरिस मैग्ना मंदिर के पास  है. इस मंदिर में आइसिस देवी की पूजा होती थी. कैथलीन ने इस मंदिर के पास खुदाई की तो उन्हें 200 शाही सिक्के मिले. इसमें क्लियोपेट्रा का चेहरा बना हुआ था.

मिस्र में पहले मंदिरों के पुजारी राजा या रानी की तरफ से जब पूजा करते थे, तब वह देवी आइसिस को राजा-रानी की शक्ल वाले सिक्के चढ़ाते थे. यह परंपरा मिस्र में सैकड़ों सालों तक चली थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here