क्यों से,/क्स करने का मन करता है, जानें पुरुषों-महिलाओं में आखिर क्यों जगती है यह फीलिंग्स..

क्या आपने कभी इस बात पर गौर किया है कि क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है और क्यों से,/क्स करने का मन नहीं करता। इस मामले में पुरुषों और महिलाओं की फीलिंग्स अलग-अलग हो सकती है। किसी को से,/क्स आनंदमयी एहसास पाने के लिए कर सकता है तो किसी को ऑर्गेज्म पाने की ललक के कारण। वहीं से,/क्स न करने के पीछे भी कई कारण हैं। बहरहाल, से,/क्स इंसानों की जरूरत है, वहीं मानसिक और शारिरिक रूप से स्वस्थ्य रहने के लिए एक बेहतर जरिया भी। जिसे कर व्यक्ति खुद को संतुष्ट महसूस करता है। तो आइए इस आर्टिकल में क्यों से,/क्स करने का मन करता है जानने के साथ इससे जुड़े विभिन्न पहलुओं को भी जानते हैं।

से,/क्स आनंददायक क्यों होता है – जेनाइटल हमारे शरीर के अहम भाग में से एक हैं। यह शरीर के कई अंगों को आनंददायक महसूस कराते हैं। क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है, इसका सीधा संबंध हमारे दिमाग पर निर्भर करता है। दिमाग हार्मोन रिलीज करते हैं, जिससे से,/क्स के दौरान आनंद का एहसास होता है। साइंटिस्ट का भी यही मानना है कि से,/क्स काफी आरामदायक एहसास है। यही कारण है कि लोगों को से,/क्स करने का मन करता है।

जानें साइंटिफिक कारण – क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है, यदि इसके कारणों के बारे में जाना जाए तो साइंटिफिक तौर पर से,/क्स के दौरान हमारे शरीर में कई प्रकार की प्रतिक्रियाएं होती हैं, जिससे हम अच्छा महसूस करते हैं। आनंद की यह भावनाएं शारीरिक और भावनात्मक रूप से संबंधित होती हैं, ऐसा हम तभी अनुभव करते हैं जब से,/क्स कर रहे होते हैं, इस दौरान हमारी इच्छाएं तीव्र गति से काम करती हैं। से,/क्स के दौरान आनंददायक एहसास के पीछे कई कारण हैं, जिनमें इन चारों कारणों की वजह से किसी भी महिला और पुरुष को इंटरकोर्स या मास्टरबेशन के दौरान आनंद का एहसास होता है। वैसे हर व्यक्ति का शरीर अलग होता है, ठीक उसी प्रकार वो से,/क्स को लेकर अलग-अलग अनुभूति महसूस कर सकता है।

रिसोल्यूशन : क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है इसके लिए रिसोल्यूशन भी जिम्मेदार है। ऑर्गेज्म के बाद हमारे मसल्स रिलेक्स होते हैं। वहीं हमारा शरीर उत्तेजना के पूर्व की स्थिति में आ जाता है। पुरुषों और महिलाओं में यह स्थिति अलग-अलग हो सकती है। देखा गया है कि पुरुषों में वीर्य के निकलने के तुंरत बाद ऑर्गेज्म का एहसास होता है, लेकिन महिलाओं में नहीं। रिसोल्यूशन स्टेज के दौरान कई महिला और पुरुष उत्तेजना से भरपूर हो जाते हैं।

ऑर्गेज्म : सही मानसिक अवस्था के साथ यदि उत्तेजना आए तो व्यक्ति ऑर्गेज्म का एहसास कर सकता है। ज्यादातर महिलाओं में देखा गया है कि क्लिटोरियल में उत्तेजना के कारण उनमें ऑर्गेज्म जल्दी आता है। लेकिन कुछ लोगों के लिए यह ऑर्गेज्म तक पहुंचने का जरिया है। पुरुषों के लिंग के ऊपरी छोर को कुछ देर के लिए उत्तेजित किया जाए तो उन्हें ऑर्गेज्म का एहसास होता है। ज्यादातर पुरुषों में ऑर्गेज्म आने तक उनका वीर्य निकल जाता है। लेकिन यह भी संभव है कि बिना वीर्य के आए ही वो ऑर्गेज्म का एहसास कर पाए। कुछ महिलाएं भी ऑर्गेज्म के दौरान इजाक्युलेट करती हैं। हालांकि इस द्रव में ऐसा क्या खास होता है, यह अभी भी शोध का विषय है। दोनों ही पुरुष व महिलाएं से,/क्स के दौरान होने वाले मसल्स कांटरेक्शन के साथ ऑर्गेज्म का एहसास करते हैं। पुरुषों में जहां रेक्टम, पेनिस, पेल्विस में संकुचन होता है वहीं महिलाओं के वजाइना, यूट्रस, रेक्टम में इसका एहसास होता है। कुछ लोगों को पूरे शरीर में संकुचन का एहसास होता है।

प्लेटियू : क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है, इसके तहत प्लेटियू भी एक स्टेज है। इसके अंतर्गत व्यक्ति की उत्तेजना तीव्र बनी रहती है। वहीं वजाइना, पेनिस और क्लिटोरिस काफी सेंसेटिव बन जाते हैं। इस दौरान व्यक्ति कई प्रकार की सेंसिटिविटी को एहसास कर सकता है। इस अवस्था के दौरान व्यक्ति की उत्तेजना कभी बढ़ सकती है तो कभी घट सकती है।एक्साइटमेंट : क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है, इसके तहत एक्साइटमेंट-उत्तेजना काफी अहम रोल अदा करता है। इस अवस्था के दौरान पेनिस, वजाइना, पेल्विस, वाल्वा और क्लिटोरिस में मौजूद टिशू में पर्याप्त मात्रा में रक्त भर जाते हैं। ऐसे में इन खास जगहों पर नर्व में सेंसिटिविटी काफी ज्यादा बढ़ जाती है। इस प्रकार के ब्लड एक प्रकार का फ्लूड, जिसे ट्रांसलुसेंट कहते हैं, इजात करता है। यह वजाइना में लूब्रिकेट का काम करता है। से,/क्स के दौरान मसल्स में घर्षण होने की वजह से कई लोगों का ब्लड फ्लो तेज होने के कारण वो तेज-तेज सांस लेने लगते हैं।

जानें दिमाग पर से,/क्स का क्या पड़ता है प्रभाव – क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है इसका संबंध दिमाग से भी जुड़ा है। से,/क्स से जुड़ा आनंद हासिल करने के लिए दिमाग यौन संवेदनाओं को समझता है। सेक्सुअल एरिया में मौजूद नर्व हमारे दिमाग को खास प्रकार के सिग्नल भेजते हैं। वहीं दिमाग उन सिग्नल की मदद से सेक्सुअल सेंसेशन को इजात करता है। शरीर में न्यूरोट्रांसमीटर (Neurotransmitters) एक प्रकार का कैमिकल मैसेंजर है। जो दिमाग को शरीर के अन्य भागों से बात करने में मदद करता है। कुछ न्यूरोट्रांसमीटर की भूमिका सेक्सुअल प्लेजर से भी जुड़ी हुई है, जैसे

यूं तो अभी तक हमने क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है इसको लेकर कई अहम जानकारी जानी, वहीं यह भी जानना जरूरी है कि से,/क्स के बाद अच्छा महसूस न होने का कारण क्या है। तो बता दें कि से,/क्स सभी के लिए आनंददायक एहसास नहीं है। वहीं कई लोग तोसे,/क्स के दौरान दर्द का एहसास करते हैं। ऐसा ज्यादातर महिलाओं में देखने को मिलता है। करीब 75 फीसदी महिलाओं को जीवन के किसी न किसी प्वाइंट पर से,/क्स के दौरान दर्द की समस्या देखने को मिलती है। वहीं करीब 10 से 20 फीसदी महिलाएं नियमित तौर पर से,/क्स के दौरान दर्द या फिर डिस्परेयूनिया का एहसास करती हैं

पुरुष भी से,/क्स के दौरान दर्द का एहसास कर सकते हैं, जैसे पेनिस के स्ट्रक्चरल प्रॉब्लम के कारण, जिसे फिमोसिस कहा जाता है प्रोस्टेट संबंधी परेशानी के कारण, जिसे प्रोस्टैटिटिस  भी कहा जाता है ऐसे में वैसे लोग जो से,/क्स के दौरान आनंद महसूस नहीं करते हैं उन्हें से,/क्स की इच्छा भी नहीं करती है। वहीं वैसे लोग जो डिमाईसेक्सुअल  होते हैं, वो सीमित अवस्थाओं में ही से,/क्स की इच्छा करते हैं, जिसमें वो आनंद महसूस करते हैं। खासतौर से तब जब वो पार्टनर के साथ प्यार में होते हैं।

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन के कारण सेक्सुअल इंटरेक्शन के कारण जो पार्टनर के सेक्सुअल इच्छाओं और इंटरेस्ट को कम करे एक या एक से अधिक पार्टनर के साथ से,/क्स करने से अराउसल न आने के कारण पूर्व में किसी प्रकार का यौन शोषण, हादसा, एक्सीडेंट के कारण जिसकी वजह से दर्द का एहसास होना से,/क्स के दौरान होने वाले दर्द की स्थिति में लेनी चाहिए डॉक्टरी सलाह दर्द के कारण इंज्युरी हो जाए, चाइल्ड बर्थ या मेडिकल प्रोसिजर के कारण दर्द जब अन्य कारणों से भी होने लगे, जैसे पेशाब के दौरान दर्द, असामान्य वजाइनल ब्लीडिंग मैनेजिंग स्ट्रेटेजी भी जब काम न आए, जैसे लूब्रिकेंट का इस्तेमाल या फिर से,/क्स पोजिशन को बदलने के कारण दर्द जब लंबे समय तक बना रहे या फिर और बिगड़ता जाए.

से,/क्स का कतई अर्थ नहीं कि आप चोटिल हो जाएं, इस दौरान आपको दर्द का एहसास हो। वहीं यदि आपको से,/क्स के दौरान दर्द का एहसास होता है तो इसका इलाज संभव है आपको डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए। कोरोना और से,/क्स लाइफ के कनेक्शन को जानने के लिए खेलें क्विज : क्या कोरोना वायरस और से,/क्स लाइफ के बीच कनेक्शन है? अगर जानते हैं इस बारे में तो खेलें क्विज जानें सेफ से,/क्स और आनंदमयी से,/क्स के टिप्स क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है,.

यह जानने के बाद सेफ से,/क्स और आनंदमयी से,/क्स के टिप्स को जानना बेहद ही जरूरी हो जाता है। इसके लिए आप अपने पार्टनर से से,/क्स संबंधी बातों को शेयर कर उनकी जरूरतों के हिसाब से से,/क्स करें तो ज्यादा अच्छा महसूस करेंगे। 2018 में हुए शोध के अनुसार पुरुष व महिलाएं कुछ स्ट्रेटेजी अपनाकर ऑर्गेज्म पा सकते हैं। वहीं आनंदमयी से,/क्स का अनुभव कर सकते हैं। उसके तहत इन जरूरी बातों को अपनाना होगा, जैसे यह रणनीति अलग-अलग लोगों पर अलग-अलग तरह से लागू होती है, जैसे महिलाओं में बिना क्लिटोरल स्टिमुलेशन के ऑर्गेज्म नहीं आता है।

महिलाओं को कुछ खास सेक्सुअल पोजिशन में ही स्टिमुलेशन का एहसास होता है। ऐसे में जिस से,/क्स पोजिशन में उन्हें स्टिमुलेशन का एहसास होता है उन्हें वही ट्राई करना चाहिए। पुरुषों की बात करें तो उन्हें से,/क्स में मजा तभी आता है जब से,/क्स लंबा चलता है, महिलाओं का ऑर्गेज्म आने में समय लगता है, ऐसे में से,/क्स लंबा चले तो महिलाओं को भी संतुष्टि हासिल होती है। लंबी और गहरी सांस लेने से पुरुष वीर्य को निकलने में थोड़ा रोक सकते हैं और से,/क्स टाइम लंबा खिंचता है।वैसे व्यक्ति जिन्हें से,/क्स के दौरान इरेक्शन में समस्या होती है उन्हें एक्सरसाइज कर ब्लड फ्लो को बढ़ाकर सेक्सुअल परफॉर्मेंस के साथ इरेक्शन को बढ़ाना चाहिए। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन से जूझ रहे लोगों को दवा का सेवन करना चाहिए, डॉक्टरी की सलाह के बाद वो चाहें तो सिलडिनेफिल- वियाग्रा  का सेवन कर सकते हैं।

पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज है बेस्ट, इस एक्सरसाइज को कर मसल्स को मजबूत कर सकते हैं। क्योंकि ऑर्गेज्म में इसका काफी अहम योगदान होता है। इसे करने से पुरुषों व महिलाओं का स्ट्रांगर ऑर्गेज्म आता है और उन्हें अपने ऑर्गेज्म पर काबू करने में मदद मिलती है। आप चाहें तो एक्सपर्ट की मदद से इस एक्सरसाइज को कर सकते हैं। वहीं कुछ लोगों को फिजिकल थेरेपिस्ट से मिलने की भी जरूरत पड़ सकती है। जो आपको से,/क्स को इंज्वाय करने का सुझाव दे सकता है।

क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है, इसके हैं कई कारण, बस करें इंज्वाय क्यों मुझे से,/क्स करने का मन करता है इसका सही-सही कारण किसी के पास नहीं है। कई लोग अलग-अलग से,/क्स पोज अपनाकर सेक्सुअल प्लेजर का एहसास कर सकते हैं। यदि सेक्सुल प्लेजर का एहसास न हो तो जरूरी है कि आप अपने पार्टनर से खुलकर बातें करें ताकि से,/क्स संबंधी परेशानी को सिर्फ बातों से ही हल किया जा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *